Biography of Rajguru In Hindi


राजगुरु का जन्म 24 अगस्त 1908 को पुणे महाराष्ट्र में हुआ था राजगुरु का पूरा नाम शिवराम हरि राजगुरु था राजगुरु के पिता हरिनारायण तथा माता पार्वती बाई थीं। राजगुरु के पिता का निधन इनके बाल्य काल में ही हो गया था ,इनका पालन पोषण इनकी माता तथा बड़े भाई ने किया। राजगुरु भारत के प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी थे। 

राजगुरु की उपलब्धियाँ 

स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है मै उसे हासिल करके रहूँगा का उद्घोष करने वाले बालगंगाधर  तिलक के विचारो से बहुत प्रभावित थे पुणे का वह खेड़ा गांव जहाँ राजगुरु का जन्म हुआ था उसे अब राजगुरु नगर के नाम से जाना जाता है। 
शिवराम हरि राजगुरु भारत के प्रसिद्ध वीर सेनानी थे ये सरदार भगत सिंह और सुखदेव के परम मित्र थे इन्होने अपनी मित्रता जीवन पर्यन्त निभाई। देश की आजादी के लिए राजगुरु की दी गई शहादत इनका नाम भारत के इतिहास में स्वर्ण अक्षरों में अंकित करवा दिया। राजगुरु ,भगत सिंह तथा सुखदेव की शहादत आज भी भारत के युवको को प्रेरणा प्रदान करती है। 

सांडर्स हत्या कांड 

भगत सिंह और सुखदेव ये दोनों राजगुरु को अपना सबसे सच्चा साथी मानते थे  दल ने लाला लाजपत राय की मृत्यु के जिम्मेदार अंग्रेज ऑफिसर स्कॉट का वध करने की योजना बनाई। इस काम लिए भगत सिंह और सुखदेव को चुना गया राजगुरु अंग्रेजो को सबक सिखाने का अवसर ढूंढ ही रहे थे अब वह सुअवसर उन्हें मिल गया था 19 दिसम्बर 1928 को भगत सिंह राजगुरु और चंद्रशेखर आजाद ने सुखदेव के कुशल मार्गदर्शन में जे. पी. सांडर्स नाम अन्य अंग्रेज अफसर का जिसने स्काट के कहने पर लाला लाजपत राय पर लाठियां चलायी थी का वध कर दिया कार्य वाही के पश्चात भगत सिंह अंग्रेजी साहब बनकर राजगुरु उनके सेवक बनकर और चंद्रशेखर आजाद सुरक्षित पुलिस की दृष्टि से बचकर निकल गए  

राजगुरु की शहादत 

राजगुरु को 23 मार्च 1931 को शाम 7 बजे लाहौर केंद्रीय जेल में उनके मित्रों भगत सिंह और सुखदेव के साथ फांसी दे दी गई। इतिहासकार बताते है की फांसी को लेकर जनता में रोष को को ध्यान में रखते हुए अंग्रेज अधिकारियों ने तीनो क्रांतिकारियों के शवों का अन्तिम संस्कार फिरोजपुर जिले के हुसैनी वाला में कर दिया था।  यह भी माना जाता है कि इन तीनो क्रान्तिकारियो की फांसी की तिथि 24 मार्च निर्धारित थी लेकिन अंग्रेज सरकार फांसी के बाद उत्पन्न होने वाली स्थितियों से घबरा रही थी। इसलिए उसने एक दिन पहले ही फांसी दे दी। 

Post a Comment

Please comment on you like this post.

नया पेज पुराने